Happy Halloween

HAPPY HALLOWEEN

Halloween का त्योहार कई मायनों में बहुत ही विशेष है, हर साल अक्टूबर में मनाया जाने वाला ये त्योहार एक नहीं बल्कि कई धार्मिक महत्व रखता है। ये Christian फेस्टिवल भारत मे न मनाए जाने के बावजूद भी काफी पॉपुलर है क्योंकि इस त्योहार के दौरान होने वाली गतिविधियां बहुत ही हर्षवर्धक और मजेदार हैं। इस त्योहार पर 10-12 वर्ष के आसपास के बच्चे घर घर जाकर trick or treat की मांग करते हैं, जिसका अर्थ है कि या तो लोग उनको treat यानी मिठाई, चॉकलेट, टॉफ़ी आदि दें या फिर वो उन्हें trick यानी परेशान करेंगे। बच्चे अजीबो गरीब वेशभूषा पहनकर ये काम करते हैं , ये वेशभूषाएँ कोई सुपरहीरो या सुपरविलेन कॉस्टयूम भी हो सकतीं हैं लेकिन कायदे से वेशभूषा डरावनी होनी चाहिए, उसके लिए बच्चे फिल्मों के अलग अलग हॉरर किरदारों की वेशभूषा पहनते हैं जैसे कि वैम्पायर, वेयरवोल्फ या ज़ोंबी।
महत्ता- कहने को तो ये त्योहार फसल कटने के समय मनाया जाता है लेकिन इस त्योहार से जुड़े कुछ विश्वास और अंधविश्वास भी हैं। लोग मानते हैं कि इस त्योहार के दिन उनके पूर्वजों की आत्मा उनके साथ होती है। इस त्योहार से जुड़ी एक लोककथा भी है कि एक गांव में एक जैक नाम का एक चोर था जिसने जीवन मे कोई सही काम नहीं किया था और बहुत शराब भी पीता था, एक दिन उसने एक मंत्र के द्वारा शैतान को बंदी बना लिया और उसे केवल एक शर्त पर छोड़ा की वो उसकी मृत्यु के समय पर उसकी आत्मा को नर्क नहीं ले जाएगा, शैतान मान गया और जैक ने उसको जाने दिया। फिर कुछ वर्ष बाद उसकी मौत हो गयी जिसके पश्चात उसकी पापी आत्मा स्वर्ग के दरवाजे पर गयी लेकिन उसे वहां से अंदर नहीं जाने दिया गया और नर्क के द्वार भी उसके लिए बंद थे। उसके बाद उसकी आत्मा वापस पृथ्वी पर आकर भटकने लगी। halloween में कद्दुओं को मानवाकृति में काटा जाता है और घर के बाहर रख दिया जाता है, ताकि जैक की आत्मा जो halloween के दिन सक्रिय रहती है वो लोगों को परेशान न करे। ऐसे मानव जैसे चेहरे वाले कद्दू में लालटेन जलाकर रख दिया जाता है, इस प्रकार से बनाई जाने वाली लालटेन को Jack O’Lantern कहा जाता है।
अन्य गतिविधियां- halloween के दिन लोग डरावनी फिल्में भी देखते हैं और एक दूसरे को भयावह कहानियां भी बताते हैं। halloween आत्माओं का दिन है या नहीं ये तो नहीं कह सकते लेकिन कुछ लोग Jack की existence को सच मानते हैं और कुछ ने उसे दुनिया की सबसे शैतानी आत्मा का भी दर्जा दिया है।

Written by Samvart Harshit

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.