NagBharat Complete Series

Dheeraj Anand's Dhruv Nagraj Doga

100 DAYS OF NAGBHARAT
(AARAMBH SE VINASH TAK)
(आरंभ से विनाश तक)
नमस्कार मित्रों,
आप सब यह सोच रहे होंगे कि मैं ये आर्टिकल क्यों लिख रहा हूँ, पर इसको पढ़ने के बाद शायद आपको इसका जवाब मिल जाये।
दोस्तों नागभारत केवल एक कहानी नही एक महागाथा है , एक यात्रा है और अगर आप इसे पढ़ रहे है तो यकीनन आप भी उस उस यात्रा में मेरे साथ है।
‎दोस्तो 1 जनवरी को शुरू हुआ ये सफर आज ठीक सौंवे दिन समाप्त हो रहा है।
‎अनुपम सिन्हा द्वारा लिखित नागयाण हम सबकी favourite कॉमिक्स में से एक है, उसी से प्रेरित होकर मैंने नागभारत लिखने का सोचा , और आप सबके सहयोग ने इसे सफल बनाया।आपलोगो के ही सहयोग से नागभारत नागायण और महाभारत से प्रेरित होकर भी एक नई कहानी बन पाई।
‎यह कहानी भविष्य यानी 2030 में आधारित है(शायद कई लोग इसे भूल भी चुके होंगे)।।ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि इसमें कई किरदार अंतिम में मर भी जाएंगे और कई किरदार नई परिभाषा पाएंगे । इस कहानी मे मैंने एक नए किरदार नागेन्द्र की भी रचना की जिसे लोगों ने पसंद किया और जो पूरी कहानी में एक मुख्य किरदार था।
‎इस कहानी को लिखते हुए कई गलतियां भी हुईं जैसे-
‎यह दिखाना कि नागपाशा में कालजयी का विष है।
‎बाकी कुछ villains को कमजोर दिखाना।
‎मरु ग्रह की कुछ खास विशेषताओं को ना बताना।
‎शुरुआत के भागों में फाइट सीन्स को छोटा लिखना।
‎पर इन गलतियों के अलावा मैंने बहुत कुछ सीखा भी है।
‎आशा करता हूँ पूरे नागभारत के साथ यह अंतिम पर्व भी आपको पसंद आएगा।
‎उन सभी का शुक्रिया जिनके comments और reviews मुझे हर पार्ट्स पर मिले।
‎पूरी कहानी पढ़ने के बाद अपने comments देना बिल्कुल ना भूले।
‎कहानी का कौन सा भाग आपको अच्छा लगा।
‎कहानी में क्या कमियां थीं?
‎ कौन से किरदार ज्यादा रोचक थे?

अंत मे आप सभी का शुक्रिया , फिर मिलेंगे एक नई कहानी , एक नई यात्रा के साथ ।
तब तक के लिए अलविदा।
आपका अपना…
आकाश पाठक।

All part’s links are given below in chronological order up to down.

 

NaagBharat – (Aarambh Parv)

# नागभारत# Year 2030 स्थान-एक निर्जन द्वीप ऊपर से सब कुछ शांत। पर द्वीप के अंदर बहुत हलचल थी । सारे महाखलनायक आज वहाँ मौजूद थे। रोबो ,मिस किलर ,नागदंत , काल पहेलिया …

Nagbharat (Nagdweep Parv)

नागभारत नागद्वीप पर्व अध्याय -1 स्थान – एक निर्जन आयाम में एक ग्रह । मरू ग्रह। किसी भी प्रकार की हरियाली का दूर तक कोई नामोंनिशान नहीं । चाराें ओर …

Nagbharat (Sabha Parv)

नागभारत सभा  पर्व [ This Story Is Written By Akash Pathak For Comic Haveli ] स्थान -नागद्वीप नागद्वीप की सभा । फरसा अपने फरसे से सभा में उत्पात मचा रहा …

Nagbharat (Neelmani Parv)

नागभारत ‎(नीलमणि पर्व) “जैसा कि हम सब जानते है यह ब्रह्मांड अनंत है । पर उसके साथ ही ये बहुत ही संतुलित भी है । यहाँ हर ऊर्जा की एक …

Nagbharat (Bhediya Parv)

नागभारत भेड़िया पर्व वन । इस पृथ्वी पर जीवन का आधार हैं वन । फिर भी मानव हमेशा से स्वयं के लाभ के लिए वनों को नष्ट करता रहता है। …

Nagbharat (Shakti Parv)

नागभारत शक्ति पर्व स्थान-असम। जंगल में अंधेरा अपने पाँव पसार चुका था। रात में जंगल के कबीले वाले अपने अपने घरों में चले जाते है क्योंकि यह समय होता है …

Nagbharat (Anthony Parv)

नागभारत ‎सप्तम पर्व ‎एंथोनी पर्व स्थान- रूपनगर शाम के समय । आज रूपनगर के श्मशान में बहुत भीड़ थी। चारों तरफ डर का माहौल था। एंथोनी का शरीर उसके कब्र …

Nagbharat – (Kaal Parv)

नागभारत काल पर्व मनुष्य हमेशा से प्रकृति को अपने वश में करना चाहता रहा है , परन्तु जिसको वह अपने वश में नहीं कर सकता वो है- काल। भूतकाल में …

Nagbharat – (Rann Parv)

नागभारत – ‎रण पर्व युद्ध की रणभेरी बज चुकी थी। योद्धाओं ने तैयारियाँ भी कर ली थी। अब आरम्भ होने वाला था – रण। ‎स्थान- असम। ‎सारे ब्रह्मांड रक्षक कालक्षेत्र …

Nagbharat – (Vinash Parv)

नागभारत ‎विनाश पर्व (Antim Khand) विनाश और सृजन एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। मनुष्य हमेशा विनाश से भागता रहता है , पर कभी ये समझ ही नहीं पाता …

 

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.