Sarvnayak Se Trast Part 5

 सर्वनायक से त्रस्त  

Part – 5

🌍।। युगम धारित्री अस्य:।।🌏

भोकाल : क्या हुआ नागराज मुझे तिरंगा से नही मिलवाना चाहते क्या ?😟

नागराज :(💭 गुर्रर्रर्रर्र अब मैं कैसे पीछा छुड़ाऊं इस चांडाल से।💭)

भोकाल : क्या हुआ नागराज ले चलो मुझे तिरंगा के पास। अरे मैं कह रहा हूँ न सिर्फ मुझे उसका हाल चाल जानना है मैं बाहर से ही बस उसका हाल चाल पूछूँगा। (💭 हीहीही बच्चू मुझे लग रहा है की तिरंगा कहीं भाग गया है और तुम सब यह बात छुपा रहे हो ताकि तुम लोगों की बेइज़्ज़ती न हो। लेकिन अब तू क्या जवाब देगा नागराज 💭😁)।

नागराज : ठीक है चलो मैं तुम्हारी बात करवाता हूँ तिरंगा से। चलो मेरे साथ toilet🚽 की तरफ ।

*******
भोकाल स्तब्ध हो जाता है
*******

भोकाल : (💭आयीं यह क्या 😵💭)

नागराज : क्या सोच रहे हो नही चलना क्या अब ।

भोकाल : अ ब ब… हाँ हाँ चलो ।(💭 इसका मतलब सच में तिरंगा टॉयलेट में ही है क्या?💭)



************
नागराज भोकाल को लेकर टॉयलेट की ओर बढ़ जाता है।
************

इंस्पेक्टर स्टील (ध्रुव से ): पहली बार नागराज ने दिमाग लगाया है। 😁हीही टॉयलेट में कोबी बैठा है वह सब संभाल लेगा । कोनसा भोकाल अंदर घुस कर देखने जा रहा है की अंदर तिरंगा बैठा है या कोई और। बस कोबी भोकाल को तिरंगा की आवाज़ बनाकर लपेट ले तो काम बन जाये😋।

ध्रुव : खाक … ख़ाक काम बनाएगा वो। बल्कि बिगाड़ देगा। साला जानवर बुद्धि है।

************
नागराज भोकाल को लेकर टॉयलेट की तरफ बढ़ रहा है और उसके दिमाग में कुछ चल रहा है ।
************

नागराज : (💭चलो अच्छा है टॉयलेट में वो साला कोबी बैठा हुआ है मुझे बस उससे ऐसे बात करनी है की उसे लगे की मैं तिरंगा से बात कर रहा हूँ और उसे तिरंगा की एक्टिंग करने को कह रहा हूँ। और फिर वो सब संभाल लेगा। बस वो मेरी बात समझ जाये 💭)

***********
नागराज सोचता हुआ भोकाल को लेकर टॉयलेट के पास पहुँच जाता है।
***********

नागराज : (💭 पहले मैं नॉक कर लेता हूँ जब वह कोबी का बच्चा पूछेगा कौन । तब मैं उसे तिरंगा कह कर पुकारूँगा💭)

************
नागराज ने जैसे ही टॉयलेट का दरवाज़ा खटखटाया उसकी सोच के विपरीत उसे जवाब सुनने को मिला।
***********

कोबी (टॉयलेट के अंदर से) : कौन है बे? गुर गुर गुर्रर्रर्रर्र गदा मार के सर फोड़ देब🐺😡 ।

भोकाल :(💭 गदा?? 💭) नागराज यह तिरंगा कबसे गदा मारने लगा ?😮

नागराज : आ व वो अभी कुछ दिनों पहले ही इसने अपना हथियार change कर लिया है न्याय स्तम्भ को भंगार में बेच कर वहीँ से एक नया गदा ले लिया।

भोकाल : आयीं … लेकिन इतना अच्छा हथियार छोड़कर उसने गदा क्यों ले ली?



नागराज : अजी कहे का अच्छा कोई काम का नही था वह। उससे अच्छा तो गदा ही है। एक खीच के लगाओ बन्दा परलोक सिधार जाता है।😋

भोकाल : हीही।😁😁

*************
और फिर नागराज कोबी को पुकारता है
*************

नागराज : अबे तिरंगा के बच्चे मैं हूँ । नागराज ।

कोबी : अबे कौन तिरंगा कौन नागराज टॉयलेट के अंदर किसी को नही पहचानत मैं। चल अब चुपचाप से निकल ले करन दे मुझे टट्टी। गुर्रर्रर्रर्र।😡😠

नागराज : अबे तिरंगा क्यों बकवास कर रहा है।

*********
नागराज आगे भी कुछ कहता इससे पहले ही कोबी बोलना शरू कर देता है।
*********

कोबी : अबे कौन तिरंगा बे मैं तिरंगा बिरंगा नई हूँ।😠

भोकाल : नागराज यह क्या बक रहा है। अपना नाम भी नही पहचानता क्या?😮

नागराज (खिसियाते हुए) : हे हे हे अब तुम तो जानते ही हो बेचारा दो दिन से टॉयलेट में ही बैठा है तो बेचारे का दिमाग थोड़ा घूम गया है। च् च् बेचारा।😂

भोकाल : लेकिन यह इतनी बदतमीज़ी से क्यों बात कर रहा है।

नागराज : अब यह भी कोई बात हुई । एक तो बेचारा दो दिन से टॉयलेट में बैठा है उसकी वो रुकने का नाम ही नही ले रही है। ऊपर से बेचारे ने दो दिन से कुछ खाया भी नही है। बेचारे ने जो खाया वो ही नही निकला है अभी तक। तो तुम ही बताओ ऐसा बन्दा चिड़चिड़ा कर बात नही करेगा तो कैसे करेगा। गुर्र।😠

भोकाल : अच्छा भाई माफ़ कर दो फिरसे उससे बात करने की कोशिश करो।( 💭 ही ही बेटा मैं जानता हूँ तुम लोगों ने दाल में ज़रूर कुछ काला कर रखा है💭😕।)

************
नागराज एक बार फिर न चाहते हुए भी कोबी को आवाज़ लगाता है।
************

नागराज : तिरंगा ये देखो भोकाल तुम्हारा हाल चाल जानने के लिए आया है। बस तुम इसे अपना हाल बता दो यह चला जाएगा। (💭 गुर्रर्र कोबी के बच्चे मेरी बात समझ 💭)

कोबी : अबे तू गवा नही अभी तक मैं कह रहा हूँ निकल ले मुझे चैन से करन दे वरना गदा मार के सिर फोड़ देबे। गुर्रर्रर्रर्र। साले टॉयलेट में भी दुम पकड़ने आ जाते हैं। गुर्रर्र।😡😡😡😡



नागराज ( गुस्सा जब्त करते हुए) : अरे मेरे बाप तू बस इस भोकाल को अपना हाल चाल बता दे न वहीँ से बैठे बैठे गुर्रर्र😠। मैं कहाँ कह रहा हूँ की बाहर आ कर मिल ले 🙏।

कोबी : अच्छा तुम उनसे थोड़ा देर रुकने को कहो । अभी हम बाहर आ के आमने सामने मिलकर हाल चाल बता देबे।☺

नागराज : अरर नहीं नहीं बाहर क्यों आओगे अंदर से ही बता दो।

भोकाल: क्यों जब वह बाहर आ रहा है तो आने दो न ।

नागराज : अरे मगर वो बाहर कैसे आएगा अगर वो बाहर आ गया तो सारा फर्श गन्दा हो जायगा न ।
तिरंगा तुम अंदर से ही अपना हाल चाल बता दो न ।

कोबी : फिर्र.. फिर तिरंगा कह रहा है अबे मैं तिरंगा नही कोबी बांटू । और हम कर लिया है तो बाहर ही न आऊंगा की अंदर ही बैठ कर अंडा देबे ।😠

***********
कहता हुआ कोबी टॉयलेट का दरवाज़ा खोलता है और बाहर आ जाता है । नागराज कुछ नही कह पाता है। नागराज खिसियाया हुआ कोबी को घूरता है भोकाल आँखे फाड़ कर कोबी को देखता है । इससे पहले की भोकाल नागराज को कुछ कहता या नागराज भोकाल से कुछ कहता कोबी भोकाल के क़दमों में गिर जाता है।
***********

कोबी : महा गुरु भोकाल । पैर छुइ पैर छुइ।

*************
और भोकाल कोबी पर ध्यान न देते हुए नागराज की तरफ पलटता है।
*************

भोकाल : यही है तिरंगा ? हाँ … कहाँ है तिरंगा? …….
कैसे बताओगे। वो तो भाग गया है कहीं। दुम दबाकर । है न ?😠

*************
नागराज बेचारा खिसियाया हुआ खड़ा था कुछ बोलने के लिए उसका मुंह खुल ही नही रहा था। बेचारे की इज़्ज़त तार तार हो गयी थी उसकी टीम का खिलाड़ी मैदान छोड़ कर भाग गया था। और टीम का कप्तान होने के नाते सारी बेइज़्ज़ती उसी की होती। पर अब तो कोबी ने सब कबाड़ा कर दिया था। अब तो डबल बेइज़्ज़ती हो गयी थी नागराज की।
*************

भोकाल : क्या हुआ नागराज जवाब नही है न ? तुम और तुम्हारी पूरी टीम कायर है । झूट और मक्कारी तो तुम लोगों के अंदर कूट कूट कर भरी है। हो गी भी क्यों नही। तुम लोग कलियुग के जो हो । 😡

कोबी : क्या हुआ गुरूजी इतना भड़क काहे रहे हो । अरे मामला की है हमको भी तो बताओ कोई जनि।😮

भोकाल : हुंह यह क्या बोलेगा अब ।मक्कार। मैं जा रहा हूँ अब युगम के पास शुक्राल को विजेता घोषित करवाने के लिए ।

*************
भोकाल चला जाता है और नागराज अभी भी खिसियाया हुआ खड़ा है बुत बनकर । कितनी बुरी बुरी बातें सुनाई थी उसे भोकाल ने । उसका जी चाह रहा था उस भोकाल के बच्चे को पटक पटक कर मारें । मगर जब उसका अपना उसे धोखा देकर भाग गया था तो वो गैर से क्या उलझता ।
*************

कोबी : किया हुआ नागराज ऐसे बुत बनकर क्यों खड़े हो ।

नागराज :😡 गुर्रर्रर्रर्र । कोबी तू तो बोल मत तेरी वजह से सब कबाड़ा हो गया। क्या हो जाता तेरा अगर टॉयलेट के अंदर से ही बस इतना ही बोल देता कि हाँ भाई भोकाल मैं एकदम ठीक हूँ फिट फाट हूँ । मगर तू तो साला हमेशा गदा ही चलाया करता है।

कोबी : अरे पर मुझको किया पता था। मुझे लगा तुमको बहोत ज़ोर की लगल है और तुम मुझे निकालने के लिए बकवास कर रिया हो।

नागराज : चुप कर बे। अब अगर तू बोला तो खून पी जाऊंगा मैं तेरा । गुर्रर्रर्रर्र।😡



************
तभी युगम का ऐलान होता है की सभी सुपर हीरोज़ उनके समक्ष हाज़िर हों।
नागराज और कोबी बाहर निकलने के लिए दरवाज़े की तरफ बढ़ते हैं जहाँ ध्रुव और स्टील पहले ही बाहर निकल रहे होते हैं। ध्रुव नागराज को एक नज़र घूरता है और फिर अपना मुंह फेर का बाहर निकल जाता है। उसने भोकाल की और उसकी बात सुन ली थी।

… थोड़ी ही देर में सब युगम के सामने होते हैं जहां भोकाल और उसकी टीम पहले से मौजूद होते हैं और नागराज और उसकी टीम को नीची नज़रों से देख रहे होते हैं । नागराज भोकाल को देखता है भोकाल उसे घूर रहा होता है। नागराज अपनी नज़रे नीची कर लेता है अब इसी में उसका फायदा भी है।
************

भोकाल : हाँ तो युगम जी मैं ये कह रहा हूँ की अब आप शुक्राल को विजेता घोसित कीजिये क्योंकि इनकी टीम का खिलाडी हार मान कर भाग गया है।😠

युगम : हाँ नागराज जी क्या इनका कथन सत्य है?

नागराज : (💭 गुर्रर्रर। पूछ तो ऐसे रहा है जैसे कुछ पता ही नही है💭)

**********
नागराज चुप खड़ा रहता है ।
**********

युगम : ठीक है जब नागराज कुछ नही बोल रहे हैं तो फिर हम शुक्राल को विजेता..

ध्रुव : एक मिनट रुकिए श्रीमान।

युगम : हाँ बोलिये ध्रुव?

ध्रुव : आप कैसे कह सकते हैं की तिरंगा हार मान कर भाग गया है। ये भी तो हो सकता है की वो कहीं घूमने फिरने के लिए निकला हो और कहीं फस गया हो । आप ही बताइये वो भाग कर जायेगा कहाँ क्योंकि वो यहां से बाहर तो निकल नही सकता । हमें थोड़ा वक़्त दीजिये शक्ति उसे ढूँढने के लिए गयी हुई है जल्द ही कुछ पता चलेगा उसके बारे में।

युगम : हाँ श्रीमान ध्रुव समझदारी वाली बात की है। यह भी तो हो सकता है की वो कहीं फस गया हो। …. ठीक है हम नागराज और उसकी टीम को 5 घंटो का समय देते हैं क्योंकि अभी तिरंगा को गायब हुए सिर्फ 4 या 5 घंटे ही हुए हैं वो ज़्यादा दूर नही गया होगा। जल्द से जल्द आप उसे खोज कर लाइए।

भोकाल : (💭 गुर्रर्रर यह ध्रुव का बच्चा बीच में कूद गया वरना शुक्राल फ्री फंड का जीत रहा था💭😡)

************
और फिर दोनों टीम अपने अपने कक्ष में चली जाती है।
************

नागराज : (अपने कक्ष में )😡 गुर्रर्रर बहुत हो गया अब तो बांकेलाल को मैं यहाँ बुलाकर रहूँगा।

कोबी : लेयो…इनका सुन लेयो।

नागराज : चुप कर बे। मुझे तेरी आवाज़ नही सुनाई देनी चाहिए अब। गुर्रर्रर्रर्र।😡😡

स्टील : ध्रुव यह नागराज क्या कह रहा है तुम कुछ क्यों नही बोल रहे हो।

ध्रुव : करने दो जो करना है इनको । भाई यह कप्तान हैं टीम के जो चाहे वो करें अभी इतनी बेइज़ती करवा चुके हैं जो कसर बाकी है वो भी पूरी कर लेने दो।😠

स्टील : (नागराज की तरफ पलटकर) लेकिन नागराज तुम उसको बुलाओगे कैसे यहाँ।😮

नागराज : इसके लिए मेरी मदद देव काल जयी ही कर सकते हैं । मैं अभी उनका ध्यान लगाता हूँ।

*************
नागराज बैठकर देव कालजयी को पुकारने लगता है। और जब जब नागराज ने देव कालजयी को पुकारा है देव कालजयी को आना पड़ा है
…… कुछ ही देर में देव कालजयी नागराज के सामने एक तेज़ रौशनी के साथ प्रकट हुए।
*************

देव कालजयी: बको वत्स हमें यहाँ बुलाकर हमारा टाइम खाली पीली फ़ोकट क्यों कर रहे हो । हीहीही।😁

नागराज : हे देव कालजयी मेरे सामने एक अडिग समस्या आ गयी है कृपया मार्ग दर्शन करें।

देव कालजयी : अडिग ? लेकिन वो तो पृथ्वी पर था यहाँ कब आया ?

नागराज : हे देव कालजयी क्यों भक्त के साथ मज़ाक कर रहे हैं। एक तो मैं खुद समस्याओं से घिरा हुआ हूँ।

देव कालजयी : अच्छा अच्छा बोलो क्या बात है।

*************
और फिर नागराज देव कालजयी को सारी बात बता देता है। और सारी बात सुनने के बाद ।
*************

देव कालजयी : हम्म…. तो तुमलोग यह चाहते हो की सर्वनायक प्रतियोगिता या तो रुक जाये या फिर बांकेलाल यहाँ आ जाये । तो सुन लो इन दोनों में से कोई काम नही हो सकता । सर्वनायक प्रतियोगिता इसलिए नही रुक सकती क्योंकि यह देवताओं की मर्ज़ी है और रही बांकेलाल को बुलाने की बात तो यह काम हो सकता है पर उस शंडयंत्रकारी शख्स को तुम यहां मत बुलाओ तो अच्छा है।

नागराज : कृपया मना न करे हे देव कालजयी बस बांकेलाल को यहाँ लाना कैसे है वो बताएं बाकी मैं संभाल लूँगा ।

देव कालजयी : ठीक है तुम इतना ज़िद कर रहे हो तो हम बांकेलाल को यहाँ बुलाने का उपाय बताते हैं लेकिन हम फिर भी तुमको उससे सावधान रहने की सलाह अवश्य देंगे।😀

नागराज : जी 😊

देव कालजयी : हाँ तो सुनो बांकेलाल को यहाँ लाने की शक्ति कहीं और नही तुम्हारे ही अंदर है । ☺

नागराज : क्या सच…… कौन सी है वो शक्ति ?😇

देव कालजयी : अब यह हम नही बताएँगे नागराज थोड़ी मेहनत तुम भी करो नही तो आलसी हो जाओगे। अच्छा तो हुड़ अप्पा चलदे हैंगे । हीहीही😁

क्रमशः

।।युगम धारित्री अस्य:।।

दोस्तों आगे क्या हुआ जानने के लिए इंतज़ार कीजिये और comment ज़रूर कीजियेगा ।
और इसी तरह अपना प्यार और साथ देते रहिये।

🙏

Sarvnayak Se Trast Part 4

 सर्वनायक से त्रस्त  भाग 4  🌍 ।।युगम धारित्री अस्या:।।🌏 युगम : नागराज कहाँ हैं, हमारे प्रश्नों के उत्तर दें कि उनकी टीम के खिलाड़ी तिरंगा कहाँ हैं। नागराज : अबे …

 

Sarvnayak se Trast Part 3

सर्वनायक से त्रस्त भाग 3 🌎।।युगम धारित्री अस्या:।। 🌎   😀तो दोस्तों जैसा कि आपने पिछले पार्ट में पढ़ा कि किस तरह ध्रुव, नागराज, डोगा और परमाणु के साथ मिल कर एक Meeting …

 

Sarvnayak se Trast Part 2

सर्वनायक से त्रस्त  भाग 2 तो दोस्तों जैसा कि आपने पिछले पार्ट में पढ़ा कि किस तरह ध्रुव, नागराज, डोगा और परमाणु के साथ मिल कर एक Meeting रखता है …

 

Sarvnayak se Trast Part 1

सर्वनायक से त्रस्त 🌎 part 1 युगम धारित्री अस्याः 🌏 तो दोस्तों जैसा कि आप जानते हैं युगम छेत्र में युगम द्वारा करवाई जा रही है एक ऐसी प्रतियोगिता जिसमें …

 

Written By – Talha Faran for Comic Haveli

 

Disclaimer – These stories are written and published only for entertainment. comic haveli and writers had no intent to hurt feeling of any person , community or group. If you find anything which hurt you or should not be posted here please highlight to us so we can review it and take necessary action. comic haveli doesn’t want to violent any copyright and these contents are written and created by writers themselves. the content doesn’t carry any commercial profit, as fan made dedications for comic industry.  if any name , place or any details matches with anyone then it will be only a coincidence.

Facebook Comments

3 Comments on “Sarvnayak Se Trast Part 5”

  1. Mujhe gussa aa raha h ab
    Parts bahut chhote chhote kar diye
    2 part se to pata hi ni chala wo kichad wala prani kaun h
    Doga parmanu tiranga shakti ye log kaha hain
    Story bahut mast h
    Hasya ras se bharpur
    But bahut chhota chhota parts hai
    Aur last 2 parts me koi mahatwapurn chiz ni dikhi
    Yahi dukh hai mujhe
    Talha ji thodi lambi kijiye parts ya fir chhote me hi important points daliye
    Aap to sach ka sarvanayak bana de rahe hain
    Gurrr gurrr gurrr

  2. to jesa ki pradip ji ne bola ki Talha ji ki sarvnayak se trast b RC ki sarvnayak bante jaa rhi h… is baat se main b agree krta hn… but story mein kobi ki comedy mjhe kaafi achi lagi aur Nagraj ki haar tomjhe bahot achi lagi….. hehehe….. pr characters ki kami jhalak rhi h aap is story ko thoda short hi rkhein…. aur aap se mjhe poori umeed h ki aap hm readers ko niraash nhi karenge

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.