Sequence Part-3

++++++++++ SEQUENCE PART 3 +++++++++++

समय ने फिर से रफ्तार पकड़ी ।

परमाणु जो अभी अपने पुलिस स्टेशन में था ।

चौकीदार ( विनय के पास आते हुए ) – इंस्पेक्टर विनय आपने हमें जिस लड़की का पता लगाने के लिए कहा था उसका पता चल गया । वह इस वक्त आगरा की और जा रही है । किसी महमूद नाम की व्यक्ति के पास ।

परमाणु – महमूद , अंडरवर्ल्ड दुनिया का Don , उस लड़की को भला उस से क्या काम , कहीं वह लड़की , उस यंत्र को उसे बेचना तो नहीं चाहती । ठीक है मेरी दिल्ली से बाहर जाने की तैयारी करो उस लड़की को मुझे खुद पकड़ना होगा ।

निकिता और कीर्ति एक कंप्यूटर लैब में

कीर्ति – निकिता मैंने पता लगा लिया ।

निकिता – क्या

किर्ति – वह 16 वां सक्ष इस वक्त दिल्ली की और जा रहा है और उसका नाम पाशा है ।

निकिता – ठीक है , में सागर ओर समीर को कह देती हूं । तब तक हमें भी दिल्ली जाने की तैयारी करनी होगी ।

किर्ति – पर हमें क्यों ।

निकिता – सागर , समीर और प्रभात की अनुपस्थिति में किसी को तो वहां होना चाहिए उनका सामना करने के लिए ।

कीर्ति – ठीक है तो जल्दी चलो ।

समीर और प्रभात जो कि अंटार्कटिका महादीप पर पहुंच चुके थे ।

प्रभात – दोस्त हम अंटार्कटिका तो आ गऐ लेकिन हमें यहां कोई दिखाई नहीं दे रहा ।

समीर – हमें चारों तरफ नजर रखनी होगी क्योंकि है तो वो लोग यही कही , एक काम करो , तुम आसमान से उन पर नजर रखो मैं जमीन से उन्हें देखता हूं ।

प्रभात – यह अच्छा उपाय है ।

परमाणु जो कि अब रिवर्स के पास पहुंचत है‌।

परमाणु – सुनो रिवर्स मैं उस लड़की को पकड़ने आगरा जा रहा हूं और जब तक मैं ना जाऊं तुम यहां से कहीं मत जाना ।

रिवर्स – पर क्यों मैं भी आपके साथ चलता हूं ना ।

परमाणु – नहीं हम दोनों में से किसी एक का यहां होना जरूरी है क्योंकि दिल्ली पर आए दिन कोई-न-कोई खतरा आता रहता है । ऐसे में मेरे बाद दिल्ली की सुरक्षा की जिम्मेवारी तुम पर आती है ।

रिवर्स – ठीक है आप मेरे लिए इतना कुछ कर रहे हैं तो मेरा भी फर्ज बनता है कि मैं भी आपके लिए कुछ करूं । आप चिंता मत कीजिए मेरे होते हुए इस दिल्ली को कुछ नहीं होगा ।

परमाणु – अच्छा ठीक है जल्दी ही मिलेंगे ।

समीर और प्रभात अंटार्कटिका की कोने कौने से तलाशी ले रहे थे ।

प्रभात – काफी देर हो गई किसी का कुछ पता नहीं चला ।

समीर – हां लगता है वह यहां से कहीं और चले गए हैं ।

इतने में एक अदृश्य घुसाा प्रभात को पडा़ जिसे प्रभात दूर जा गिरा ।

प्रभात – यहां कोई हैं जो हमें दिखाई नहीं दे रहा सभंलो दोस्त

समीर – ओ तो मतलब ये अदृश्य राक्षस है ।

प्रभात अपना दिव्य फरसा प्रकट करता है और उसे हवा में दे मारता हैं । कुछ ही देर में फरसे के परहार से तीन अदृश्य राक्षसों की मौत हो जाती है‌।

समीर – ये तुमने कैसे किया ।

प्रभात – अपने दिव्य फरसे की वजह से मैंने उन्हें महसूस कर लिया था । अब मैं बाकियों को भी जल्द ही ढुंढ लूंगा ।

समीर – अरे वाह तुम्हारे पास यह शक्ति भी है ।

निकिता और कीर्ति अब एक कार में बैठी हुई थी‌।

निकिता – सागर ओर समीर दोनों से मेरा संपर्क नहीं हो पा रहा है ।

किर्ति – ऐसा संभव है क्योंकि जिस जगह पर वह दोनों गए हैं वहां पर नेटवर्क का होना संभव नहीं ।

निकिता – हम जल्द ही दिल्ली पहुंच जाएंगे Hope कि हमारे पहुंचने से पहले वो राक्षस वहां ना पहुंच जाए ।

रिवर्स अपने कमरे में बेठा हुआ था कि अचानक उसकी नजर खिड़की पर पड़ती है ।

रिवर्स – है भगवान , यह क्या है पहाड़ सा ।

रिवर्स की नजरें पाशा पर पड़ती है जिसने हाथ में एक बूढा सा आदमी उठाया होता है और पाशा उससे पूछ रहा होता है ।

पाशा – बताओ वह मुझे कहा मिलेगी । बताओ

रिवर्स – तेयार हो जाओ मेरे भाइयों लड़ने के लिए

रिवर्स के बहुत से प्रतिरूप रिवर्स से बाहर आते हैं कुछ खिड़कियों से कुछ दरवाजों से तो कुछ छत से सीधे पाशा की ओर बढ़ते हैं ।

रिवर्स जल्द ही पाशा आ के पास आ पहुंचता है‌।

रिवर्स – अरे भाई…… किसकी तलाश है तुम्हे ,तुम जिसे भी ढूंढ रहे हो शायद मैं उसे जानता हूं ।

पाशा – उस बूढ़े आदमी को आसमान की और फेंक देता है जिसे वह नीचे गिरने लगता है । यह दृश्य रिवर्स के कुछ प्रतिरूप देख लेते हैं और सुपर स्पीड से उसे बचाने के लिए उसकी और चल देते हैं ।

इधर पाशा अपने हाथ का मुका बनाकर सीधे रिवर्स पर दे मारता है पर रिवर्स होशियारी दिखाते हूंऐ सुपर स्पीड से साइड में हट जाता है ।

अभी रिवर्स इससे सभंला ही था कि पाशा दूसरा हाथ भी रिवर्स को दे मारता है जिससे बचने के लिए रिवर्स अपने 20-25 प्रतिरूपों में विभक्त हो जाता है जिसके बाद सारे के सारे प्रतिरूप मिलकर उसके हाथ के वार को रोक लेते हैं ।

इसके कुछ ही क्षण बाद पाशा अपना हाथ रिवर्स से हठा लेता हे लेकिन उससे पहले की रिवर्स अपने हाथ को छोड़ता वह और उसके 20-25 प्रतिरूप हवा की सैर कर रहे होते है जिससे रिवर्स और उसके प्रतिरूप आसमान में दूर-दूर तक फेल जाते हैं ।

सारे प्रतिरूप दिल्ली की अलग-अलग जगहों पर Building ओर घरों को तोड़ते हुए गिरते हैं जबकि रिवर्स सीधें जा गिरता है निकिता और कीर्ति की कार के आगे ।

कीर्ति संभालो निकिता

निकिता की गाड़ी गिरते हुए रिवर्स को टक्कर मार देती है जिससे रिवर्स को पहुंचने वाला आघात डबल हो जाता है और रिवर्स गिरते हुए एक पेड़ से जा टकराता है । दोनों गाड़ी से निकलकर तेजी से रिवर्स की ओर जाती हैं ।

निकिता और कीर्ति – तुम ठीक तो हो ।

रिवर्स – यार केसैे लोग हो तुम , टक्कर मार के पूछते हो की ठीक हूं ।
वैसे मैं तो ठीक हूं लेकिन तुम लोग यहां पर ठीक नहीं रहने वाले ,भागो यहां से , यहां पर खतरा है

इतना कहकर रिवर्स अचानक ही सुपर स्पीड से गायब हो जाता है ।

किर्ति – यह क्या था ।

तभी उनकी नजर पाशा पर पड़ती है ।

निकिता – ओ शीट …. पाशा यहां पर आ चुका है ।

किर्ति – और यह सक्ष उसी पाशा से लड़ रहा है लेकिन ये हे कौन ।

निकिता – पता नहीं लेकिन हमें इसका साथ देना चाहिए ,चलो जल्दी ।

रिवर्स और पाशा दोनों लड़ाई लड़ने मे व्यस्त हो जाते हैं । रिवर्स के प्रतिरूपों की संख्या धीरे-धीरे बढ़ती जा रही है जो हर दिशा से पाशा पर हमला कर रहे हैं और पाशा उन्हें मख्खीयों की तरह इधर-उधर फेंकता जा रहा है । रिवर्स के किसी भी हमले का पाशा पर कोई असर नहीं हो रहा उधर समीर और प्रभात दोनों अंटार्कटिका में अदृश्य राक्षसों का सफाया कर रहे हैं ।

समीर – अब सिर्फ एक ही बचा है ।

प्रभात – ये एक भी गया । इतना कहकर प्रभात अपने दिव्य फरसे से एक जबरदस्त वार खाली जगह पर करता है ।

समीर – वाह दोस्त तुमने तो अकेले ही सभी अदृश्य राक्षसों का सफाया कर दिया ।चलो अब बाकी बचे 2 को भी निपटा दें , इतना कहकर समीर और प्रभात तेजी से घर की ओर बढ़ते हैं । वह अभी कुछ ही दूर पहुंचे थे कि समीर को निकिता का फोन आता है ।

निकिता – हेलो , हेलो , समीर , कहां हो तुम जल्दी से दिल्ली आ जाओ , 16 वां राक्षस दिल्ली में ही है और वह सच में बहुत खतरनाक है ।

समीर – हम अभी आए तुम टेंशन मत लो बस कुछ देर और उसे संभाल लो ।

निकिता – हां एक अनजान शख्स उसे उलझाए हुए हैं लेकिन लगता है वह उसे रोक नहीं पायेगा । तुम लोगों को जल्दी आना होगा ।

कीर्ति – एक अनजान शख्स लेकिन वह तो यहां हजारों में है ।

निकिता – शायद वह अपनी सुपर स्पीड से सिमुलेशन बनाने की कोशिश कर रहा है ।

इतने मे रिवर्स का एक प्रतिरूप दोनों के पास कुछ फर्श की ईंटों को तोड़ते हुए गिरता है ।

रिवर्स का प्रतिरूप – अरे बाप रे ,आज तो सिवाय हड्डियों की कुछ नहीं टूट रहा ।

निकिता – तुम उसे ऐसे नहीं हरा सकते वह एक राक्षस है और राक्षसों से लड़ने के लिए दिव्य अस्त्रों की जरूरत पड़ती है । तुम्हें दिव्य अस्त्रों का इस्तेमाल करना होगा ।

रिवर्स का प्रतिरूप – दिव्य अस्त्र , तुम कौन हो ।

कीर्ति – तुम हमें नहीं जानते अभी कुछ देर पहले ही तो मिले थे ।

रिवर्स का प्रतिरूप – मिला था , मैं नहीं कोई और होगा ,अरे वह भी तो मैं ही था । थैंक्स मदद के लिए ।

रिवर्स का प्रतिरूप सभी दूसरे प्रतिरूपों को यह पैगाम देता है – अरे इस को हराने के लिए दिव्यास्त्रों की जरूरत है । किसी के पास दिव्य अस्त्र है तो उसका उपयोग करो ।

उसके सारे प्रतिरूप हजारों से एक हों जाते हैं

रिवर्स – अब यह दिव्य अस्त्र कहां से लाए ।

इतने में समीर और प्रभात वहां पहुंच जाते हैं

निकिता और कीर्ति दोनों तेजी से समीर और प्रभात की ओर जाती है ।

निकिता – बहुत गड़बड़ हो गई यह वाला राक्षस तो बहुत खतरनाक है , रुकने का नाम ही नहीं ले रहा

समीर – टेंशन मत लो निकिता इसकी गाड़ी को तो मैं ब्रेक लगाता हूं ।

इतना कह समीर हवा में उड़ता हुआ सुपरमैन की तरह पाशा की ओर बढ़ता है जिसका साइज घटोत्कच जितना बड़ा था और उसकी छाती पर एक जबरदस्त वार करता है लेकिन पाशा को इस वार से गुदगुदी तक नहीं होती । जवाबी कार्यवाही में पाशा भी समीर को एक ऐसा ही जबरदस्त घुसा दे मारता है जिसे समीर तीन चार घरो को तोड़ता हुआ सीधे एक पार्क में जा गिरता है ।

रिवर्स जो कि अब चुपचाप एक घर की छत पर खड़ा होकर सारे दृश्य को देख रहा है और सोच में पड़ा है ।

रिवर्स – शीट यह फ्लाइंग मशीन कौन थी ।

रिवर्स के 2-4 प्रतिरूप बाहर आते हैं ” पता नही ” और इधर उधर चलते हुए कुछ सोचने लगते हैं , इसे कैसे रोका जाए , कौनसी-कौनसी पावर यूज की जाए, कोई ना कोई तरीका तो होगा इसे रोकने का,

अचानक रिवर्स का एक प्रतिरूप ,”हां मिल गया तरीका , “पावर ऑफ टाइम एनालॉग ” अब तो बस वही है जो इसे रोक सकती है ,

रिवर्स – नहीं नहीं , मैं पावर ऑफ टाइम एनालॉग नहीं यूज करूंगा मैं उसे उसके बिना भी रोक सकता हूं । इतना कह वह सुपर स्पीड से पाशा की ओर बढ़ता है और सुपर स्पीड से ही बीच रास्ते में और प्रतिरूपों में भी विव्क़्त हो जाता है ।

उधर समीर भी अब तक हील हो चुका था और वह फिर से अपनी एक शक्ति का आहान करते हुए अपने शरीर से तेज रोशनी निकालते हुए पासा की ओर बढ़ता है ।

प्रभात भी अपना दिव्य प्रकट करता है और उसके साथ ही हवा में उड़ता हुआ पाशा पर धावा बोल देता है ।

इधर निकिता और कीर्ति

” जस्ट ए मिनट हमें पाशा के बारे में जानकारी एक पांडुलिपि से मिली थी जिसमें इसकी पूरी हिस्ट्री है शायद वहां से इसे रोकने का कुछ उपाय मिल जाए “

उधर तीनों सुपर हीरो अलग-अलग दिशाओं से एक साथ पाशा पर वार करते हैं । प्रभात अपना दिव्य फरसा पाशा के कन्धे में घुसा देता है । समीर अपनी तेज रोशनी वाली शक्ति से फिर से उसकी छाती पर वार करता है और रिवर्स पाशा के अलग-अलग हिस्सों पर अपने प्रतिरूपों के साथ मिलकर सुपर स्पीड से मुक्के बरसाने में लग जाता है । लगभग 2 घंटे तक ऐसा ही होता रहता है पाशा पर अब तक हजारों वार हो चुके थे । तीनों सुपर हीरो की आधी शक्ति छीन हो चुकी थी लेकिन इन सब का हल्का सा प्रभाव भी पाशा पर नहीं पड़ा ।

पाशा – तुम जैसे कीड़े मकोड़े मेरा कुछ नहीं कर सकते ।

रिवर्स जो कि घुटनों पर हाथ रखे हुए हाफत़े हुए तेजी से सांस ले रहा था ।

” सही कहा यार “

समीर जोकि अपनी हिलिंग पावर से खुद को हिल करने में लगा हुआ था ,उसका बाया हाथ पूरी तरह से टूट चुका था जो कि अब धीरे-धीरे ठीक हो रहा था ।

” शायद अब मुझे वह करना होगा जो मैं नहीं करना चाहता था “

प्रभात का दिव्य फरसा पूरी तरह से खून से लतपत था लेकिन इस दिव्य फरसे मैं पाशा के जिन अंगों पर चोट पहुंचाई थी वह तो कब के ठीक हो चुके हैं ।

” क्या भला “

to be continue

next part मे क्या होगा जब परमाणु भी पाशा से भिड़ेगा ।

समीर अभी रिवर्स से अनजान था लेकिन क्या होगा जब समीर को पता चलेगा कि रिवर्स ने हीं Dark Realam का दरवाजा खोला था ।

Octohead अभी भी रेगिस्तान में खुला घूम रहा है ।

क्या सारे सुपर हीरो मिलकर इस मुसीबत को रोक पाएंगे जानने के लिए जरूर पढ़ें इसका नेक्स्ट पार्ट

और इस पार्ट पर भी अपने कीमती विचार व्यक्त करें

ताकि हमें और भी कहानियां लिखने के लिए प्रेरणा मिल सके ।

——————————————————————————————————————————

to be continue

धन्यवाद

Written By – Aman for Comic Haveli

Our social links :

website- www.comichaveli.com
Twitter-http://twitter.com/comichaveli
Instagram-http://instagram.com/comichaveli
Facebook-http://www.facebook.com/comichaveli
Pinterest-http://pinterest.com/comichaveli
subscribe- http://www.youtube.com/c/ComicHavelis

Disclaimer – These stories are written and published only for entertainment. comic haveli and writers had no intent to hurt feeling of any person , community or group. If you find anything which hurt you or should not be posted here please highlight to us so we can review it and take necessary action. comic haveli doesn’t want to violent any copyright and these contents are written and created by writers themselves. The content is as fan made dedications for comic industry. if any name , place or any details matches with anyone then it will be only a coincidence.

2 Comments on “Sequence Part-3”

  1. बहुत बढ़िया लिखा है।
    परमाणु का नया रूप देखने को मिल रहा है वाह।
    सारे हीरोज को समेटना वो भी जो अभी ढंग से इंट्रोड्यूस नही हुए हैं जबरदस्त है।
    गुड वर्क। कीप इट अप

  2. Bahut jabardast sab hero naye h phir bhi connect ho pa rahe h sabse,but spelling mistake isme bhi kafi reh gayi h

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.